कंप्यूटर की भाषाएँ (Computer Languages)

कंप्यूटर की भाषाओँ को निम्न तीन श्रेणियों में विभाजित किया गया है –

  1. मशीनी भाषा
  2. एसेम्बली भाषा
  3. उच्चस्तरीय भाषा

मशीनी भाषा

कंप्यूटर के आरंभिक दिनों में प्रोग्रामरों द्वारा कंप्यूटर को आदेश देने के लिए 0 तथा 1 के विभिन्न क्रमों का उपयोग किया जाता था जिसे मशीनी भाषा कहा जाता है । क्योंकि इस प्रकार की भाषा में कोई भी प्रोग्राम लिखने के लिए समय बहुत अधिक लगता था इसलिए उच्च स्तरीय भाषाओँ का प्रयोग किया गया ।

एसेम्बली भाषा

यह निम्न स्तरीय कंप्यूटर भाषा है, जिसमें याद रखने लायक कोड का प्रयोग किया गया, जिसे नेमोनिक कोड कहा जाता है । जैसे ADDITION के लिए ADD, SUBTRACTION के लिए SUB आदि का प्रयोग होता था । इस प्रकार की भाषाओँ का प्रयोग भी निश्चित कंप्यूटर ही कर सकते थे इसलिए इससे भी उच्च स्तरीय कंप्यूटर भाषाओँ का विकास किया गया ।

उच्च स्तरीय भाषा

ये भाषाएँ मनुष्य के बोलचाल और लिखने में प्रयुक्त होने वाली भाषाओँ जैसे ही होती हैं । इनमें प्रोग्रामिंग करना काफी आसान होता है । कुछ उच्च स्तरीय भाषाएँ निम्न हैं –

फॉरट्रोन | कोबोल | बेसिक | ऐल्गॉल | पास्कल | कोमाल | लोगो | प्रोलॉग | फोर्थ | पायलेट | सी | सी++ | लिस्प | यूनिक्स | लिनक्स | ऐडा | स्नोबॉल | जावा | सी शार्प |

कंप्यूटर की पीढियाँ एवं उनमें प्रयोग आने वाली भाषाएँ

कंप्यूटर पीढ़ी कंप्यूटर भाषाएँ
प्रथम पीढ़ी (1942-1956) फॉरट्रोन – 1
द्वितीय पीढ़ी (1956-1965) फॉरट्रोन – 2, ऐल्गॉल – 60, लिस्प, कोबोल
तृतीय पीढ़ी (1965-1975) फॉरट्रोन – 4, PL/I, ऐल्गॉल – W, ऐल्गॉल – 68, ए.पी.एल., स्नोबॉल-4, बेसिक, पास्कल
चतुर्थ पीढ़ी (1975-1988)सी, सी++, क्लू, अल्फर्ड, यूक्लिड, परिष्कृत पास्कल, मोडूला, ऐडा, ओरेकल
पंचम पीढ़ी (1988 से अब तक)जावा, विजुअल बेसिक, डॉट नेट, कृत्रिम बुद्धिमता की भाषाएँ

उच्च स्तरीय भाषाएँ –

फॉरट्रोन (FORTRAN)

  • यह फार्मूला ट्रांसलेशन (Formula Translation) का संक्षिप्त रूप है ।
  • यह सबसे पुरानी उच्च स्तरीय भाषा है ।
  • इसका विकास कम्प्यूटर वैज्ञानिक जॉन डब्ल्यू. बेकस द्वारा 1957 में किया गया था ।
  • इसका नवीनतम वर्जन फॉरट्रोन-15 है जिसे 2018 में रिलीज किया गया था ।
  • विज्ञान और इंजीनियरिंग कार्यों के लिए इसका व्यापक उपयोग किया जाता है ।

लिस्प (LISP)

  • यह लिस्ट प्रोसेसर (List Processor) का संक्षिप्त रूप है ।
  • यह दूसरी सबसे पुरानी उच्च स्तरीय भाषा है ।
  • यह 1958 में जॉन मैकार्थी द्वारा विकसित की गई थी ।
  • इसे सर्वप्रथम स्टीव रसैल ने IBM 704 कंप्यूटर पर प्रयोग किया था ।
  • यह कृत्रिम बुद्धि के अनुसंधान के क्षेत्र में काम आने वाली महत्वपूर्ण भाषा है ।

कोबोल (COBOL)

  • इसका विकास 1960 के आसपास वैज्ञानिकों के एक समूह जिसे कोडासिल के नाम से जाता है, द्वारा किया गया था जिसकी अध्यक्ष डॉ. ग्रेस हॉपर थीं।
  • कोडासिल का विस्तार कांफ्रेंस ऑन डाटा सिस्टम लैंग्वेजेज है । (CODASYL – Conference on Data Systems Languages)
  • यह कॉमन बिजनेस ओरिएंटेड लैंग्वेज (Common Business Oriented Language) का संक्षिप्त रूप है ।
  • यह वाणिज्यिक कार्यालयों में प्रयुक्त होती है । इस भाषा का विकास व्यावसायिक दृष्टि से किया गया था ।
  • अधिकांश वाणिज्यिक कार्यों के लिखे कोबोल-74 का प्रयोग किया जाता है ।
  • इस भाषा में लिखे गए वाक्यों के समूह को पैराग्राफ कहते हैं । सभी पैराग्राफ मिलकर एक सेक्शन बनाते हैं और सेक्शन से मिलकर डिविजन बनता है ।

बेसिक (BASIC)

  • यह अंग्रेजी के बिग्नर्स आल पर्पज सिम्बोलिक इंस्ट्रक्शन कोड (Beginners All Purpose Symbolic Instruction Code) का संक्षिप्त रूप है ।
  • जॉन जॉर्ज कैमी तथा थॉमस यूजीन कुर्टज द्वारा 1964 में बेसिक का विकास किया गया था ।
  • इसका विकास कंप्यूटर प्रोग्राम बनाना सीखने के लिए किया गया था ।
  • इसके किसी एक भाग को स्वतंत्र रूप से निष्पादित किया जा सकता था ।
  • इसका प्रयोग वैज्ञानिक तथा व्यावसायिक दोनों उद्देश्यों के लिए होता है ।

सी भाषा (C Language)

  • इसका विकास बेल प्रयोगशाला में डेनिस रिची द्वारा 1972 में किया गया था ।
  • यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में इसका उपयोग किया गया था ।

सी++ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज (C++ Programming language)

  • इसका विकास बेल प्रयोगशाला में 1983 में बॉर्न स्ट्रास्ट्रूप के द्वारा किया गया था ।
  • यह जनरल परपज प्रोग्रामिंग भाषा है ।
  • यह सी पर आधारित है ।
  • यह एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग भाषा है ।
  • इसमें यूज़र इंटरफ़ेस वाले प्रोग्राम तैयार किये जा सकते हैं ।
  • यह यूनिक्स एवं विंडोज दोनों प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम पर कार्य कर सकती है ।

जावा (JAVA)

  • इसका विकास जेम्स गोसलिंग तथा सन माइक्रोसिस्टम द्वारा किया गया था ।
  • यह सी तथा सी++ पर आधारित है ।
  • इसमें क्रोस प्लेटफार्म क्षमता है अर्थात विंडोज में तैयार किये गए प्रोग्राम को यूनिक्स या मैक पर चलाया जा सकता है ।
  • यह भी ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग भाषा है लेकिन इसमें सरल ऑब्जेक्ट मॉडल का प्रयोग किया जाता है ।

ऐल्गॉल (ALGOL)

  • यह एल्गोरिथमिक लैंग्वेज (Algorithmic Language) का संक्षिप्त रूप है ।
  • जटिल बीजगणितीय समस्याओं को हल करने के लिए इसका विकास किया गया था ।

पास्कल (PASCAL)

  • इसका विकास 1971 में निकोलस विर्थ द्वारा किया गया था ।
  • यह ऐल्गॉल का परिवर्धित रूप है ।
  • इसका नामकरण महान फ्रांसीसी वैज्ञानिक एवं गणितज्ञ ब्लेज पास्कल (Blaise Pascal) के नाम पर किया है ।
  • यह बिना संख्याओं की प्रोग्रामिंग के लिए उत्तम भाषा है ।

कोमाल (COMAL)

  • इसका विकास डेनमार्क के बेनेडिक्ट लॉफस्ड और ब्रौज क्रिस्टनसन द्वारा 1973 में किया गया था ।
  • यह कॉमन अल्गोरिथ्मिक लैंग्वेज (Common Algorithmic Language) का संक्षिप्त रूप है ।
  • यह बेसिक व पास्कल का मिलाजुला रूप है ।
  • इसे छत्रों को प्रोग्रमिंग सिखाने के लिए डिजाईन किया गया है ।

लोगो (LOGO)

  • इसका विकास लिस्प से हुआ है ।
  • इस भाषा का प्रयोग छोटी उम्र के बच्चों को ग्राफ़िक संकेतों की शिक्षा देने के लिए किया जाता है ।
  • इसमें चित्रण करना बहुत सरल होता है । छोटे बच्चे भी टर्टल की सहायता से इसमें चित्रण कर सकते हैं ।
  • प्राथमिक एवं माध्यमिक कक्षाओं में पढ़ रहे बच्चों को शिक्षा देने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है ।

प्रोलॉग (PROLOG)

  • यह प्रोग्रामिंग इन लॉजिक (Programming in Logic) का संक्षिप्त रूप है ।
  • इसका विकास 1973 ई. में फ़्रांस में किया गया था ।
  • यह तार्किक प्रोग्रामिंग में सक्षम होती है ।
  • कृत्रिम बुद्धि के लिए इसका उपयोग होता है ।
  • जापान में पांचवी पीढ़ी के कम्प्यूटरों में इस भाषा को मानक के तौर पर चुना है ।

फोर्थ (FORTH)

  • इस भाषा का आविस्कर चार्ल्स मूरे ने किया था ।

स्नोबॉल (SNOBOL)

  • यह स्ट्रिंग ओरिएंटेड सिम्बोलिक लैंग्वेज (String Oriented Symbolic Language) का संक्षिप्त रूप है ।
  • मानवशास्त्र के क्षेत्र में इसका व्यापक उपयोग किया जाता है ।

ऐडा (ADA)

  • इसका विकास अमेरिका के रक्षा विभाग द्वारा किया गया था ।
  • इसे सी II हनीवैल बुल से विकसित किया गया है ।

सी शार्प (C SHARP)

  • सी शार्प को C# भी लिखा जाता है ।
  • यह माइक्रोसॉफ्ट द्वारा विकसित की गई है ।
  • यह मल्टीटास्किंग ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग भाषा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *