हिमोग्लोबिन

रुधिरवर्णिका या हीमोग्लोबिन (वर्तनी में हेमोग्लोबिन और संक्षिप्त में एचबी या एचजीबी) पृष्ठवंशियों[1] की लाल रक्त कोशिकाओं और कुछ अपृष्ठवंशियों के ऊतकों में पाया जाने वाला लौह-युक्त आक्सीजन का परिवहन करने वाला धातुप्रोटीन है. रक्त में मौजूद हीमोग्लोबिन फेफड़ों या गिलों से शरीर के शेष […]

कॉर्नियल घर्षण (कॉर्निया का घर्षण या कॉर्नियल अब्रेशन)

परिचय कॉर्नियल घर्षण आंख के सामने वाले भाग कोर्निया उपकला (पतली शीर्ष परत) की सतह पर एक दर्दनाक कट या खरोंच है। कॉर्नियल घर्षण आमतौर पर आंख की सतह के आघात के परिणामस्वरूप होता हैं। बहुत […]

खांसी

खांसीपरिचयखांसी अचानक और प्राय: लगातार किसी वस्तु के प्रति होने वाली प्रतिक्रिया है, जो कि श्वसन मार्ग को स्राव, परेशानी, बाह्य कणों और रोगाणुओं से साफ़ करने में मदद करती है।  खांसी की प्रतिक्रिया के तीन […]

कोरोनरी हृदय रोग

परिचय कोरोनरी हृदय रोग (सीएचडी) विरलन या कोरोनरी धमनियों की रुकावट, आमतौर पर ऐथिरोस्क्लेरोसिस के कारण होती है। ऐथिरोस्क्लेरोसिस (जिसे कभी-कभी “हार्डनिंग” या धमनियों की “क्लॉगिंग” कहा जाता है) में धमनियों की आंतरिक दीवारों पर कोलेस्ट्रॉल […]

विसूचिका/हैजा

परिचय  विसूचिका/हैजा व्यक्ति द्वारा दूषित भोजन या पानी पीने के कारण होने वाला आँत संबंधी संक्रामक रोग है। आमतौर पर, यह विब्रियो कोलरा बैक्टीरिया के कारण होता है। इसकी ऊष्मायन अवधि एक से पांच दिनों की […]

चिकनगुनिया बुखार

परिचय हालाँकि चिकनगुनिया बुख़ार से दौर्बल्य होता है, परंतु यह अघातक वायरल बीमारी है। यह रोग संक्रमित मादा एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है। एडीज मच्छर साफ़ इकठ्ठा पानी में प्रजनन करती है। […]

चेचक

परिचय चेचक वायरल संक्रमण तथा अत्यधिक संक्रामक बीमारी है। यह बीमारी वेरिसला-जोस्टर वायरस (वीज़ेडवी) के कारण होती है। चेचक मुख्यत: दस साल से कम उम्र के बच्चों में पाये जाने वाला रोग है, लेकिन साथ […]

कार्पल टनल सिंड्रोम

परिचय  कार्पल टनल सिंड्रोम (सीटीएस) एक अपेक्षाकृत सामान्य स्थिति है, जिसके कारण हाथ और उंगलियों में दर्द, सुन्नता, झुनझुनाहट और सनसनी होती है। सनसनी धीरे-धीरे विकसित होती हैं तथा फिर रात के दौरान बढ़ (बिगड़) जाती […]