माइटोकॉन्ड्रिया

कोशिका के मध्यांश भाग में विभिन्न आमाप एवं परिमाप के अनेक कोशिकांग वितरित रहते हैं । ये कोशिकाद्रव्य में उपस्थित रहते हैं अतः कोशिकद्रवी अंग भी कहलाते हैं ।

माइटोकांड्रिया कणीय अथवा तन्तु समान कोशिकद्रव्यी अंगक है जो सभी यूकैरिओटिक में पाये जाते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *