सोडियम क्लोराइड के बनाने की विधि, गुण तथा उपयोग लिखिए।

सोडियम क्लोराइड के बनाने की विधि, गुण तथा उपयोग लिखिए।

बनाने की विधि-सोडियम क्लोराइड को साधारण नमक कहते हैं। यह प्रबल अम्ल तथा प्रबल क्षार से बना लवण है अतः इसके विलयन की pH 7
होती है, अर्थात् यह उदासीन प्रकृति का होता है। सोडियम क्लोराइड व्यापारिक तौर पर समुद्र के जले या खारे पानी को सुखा कर बनाया जाता है। इस प्रकार प्राप्त नमक में कई अशुद्धियाँ जैसे मैग्नीशियम क्लोराइड (MgCl2), कैल्शियम क्लोराइड (CaCl2) होती हैं। अतः इसे शुद्ध रूप में प्राप्त करने के लिए NaCl के संतृप्त विलयन से भरी बड़ी-बड़ी टंकियों में हाइड्रोजन क्लोराइड गैस (HCl) प्रवाहित की जाती है, जिससे शुद्ध नमक (NaCl) अवक्षेपित हो जाता है, जिसे एकत्रित कर लिया जाता है।

NaCl के गुण-

और पढ़ें :   C5H10 हाइड्रोकार्बन है

यह श्वेत ठोस पदार्थ है।
इसका गलनांक उच्च (1081 K) होता है।
NaCl जल में अत्यधिक विलेय होता है।
जलीय विलयन में यह आयनित होकर Na+ तथा Cl- देता है।
उपयोग-

NaCl का उपयोग साधारण नमक के रूप में भोजन में किया जाता है।
इसका खाद्य परिरक्षण में भी प्रयोग किया जाता है।
इससे हिमीकरण मिश्रण बनाया जाता है।
NaOH, Na2CO3, NaHCO3 तथा विरंजक चूर्ण बनाने में कच्चे पदार्थ के रूप में भी NaCl को प्रयुक्त किया जाता है।

और पढ़ें :   मानव में मूत्र निर्माण की प्रक्रिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *