E.C.G के उपयोग

E.C.G के उपयोग लिखिए।
उत्तर:
ई.सी.जी. में हृदय के विभिन्न कक्षों या भागों के संकुचन तथा शिथिलन के समय होने वाली विद्युतीय गतिविधियों के संकेत एक निश्चित पैटर्न की तरंगों के रूप में प्राप्त होते हैं। इन तरंगों को P.Q.R.S. एवं T तरंगें कहते हैं। प्रत्येक वर्ण (Letter) हृदय पेशियों में घटित एक विशिष्ट अवस्था का द्योतक है। इनके अध्ययन के द्वारा हृदय की असामान्यताओं के बारे में ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं। ई.सी.जी. से हृदय धमनी सम्बन्धी रोग (Coronary Artery diseases) हृदयघनाग्रता (Coronary thrombosis) हृदयावस्थाशूल (पेरी कार्बाइटिस), हृदयपेशी रुग्णता, मध्य हृदयपेशी शूल (मायोकार्बाइटिस) इत्यादि रोगों का निदान किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *