Lysergic acid diethylamide or LSD.

Lysergic acid diethylamide (लिसिर्जिक एसिड डाईइथाइलएमाइड) या एल.एस.डी.

Lysergic acid diethylamide (लिसिर्जिक एसिड डाईइथाइलएमाइड) या एल.एस.डी. की रासायनिक संरचना

लिसिर्जिक एसिड डाईइथाइलएमाइड

एलएसडी सबसे शक्तिशाली, मूड-बदलने वाले रसायनों में से एक है। यह लिसेर्जिक एसिड से निर्मित होता है, जो कि एरोग,राई और अन्य अनाजों पर उगने वाले फफूंद में पाया जाता है। यह मुख्य रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका में, अवैध प्रयोगशालाओं में क्रिस्टल के रूप में निर्मित किया जाता है । ये क्रिस्टल वितरण के लिए एक तरल में परिवर्तित कर लिए जाते हैं ।

यह गंधहीन, रंगहीन होता है, और स्वाद में यह थोडा कडवा होता है।

संश्लेषण

इसे डाईइथाइलएमीन की सक्रिय लिसर्जिक अम्ल से अभिक्रिया करवाकर प्राप्त किया जाता है ।

खुराक

यह रसायन इतना शक्तिशाली है कि इसकी खुराक मिलीग्राम में ना देकर माइक्रोग्राम (µg) में दी जाती है । अन्य जितनी भी दवाइयाँ हैं उनकी खुराक मिलीग्राम (mg) में होती है । इसकी एक खुराक 40 माइक्रोग्राम से 500 माइक्रोग्राम तक होती है जो कि रेत के कण के 10 वें भाग के बराबर है ।

शारीरिक प्रभाव

एल.एस.डी. के शारीरिक एवं मानसिक प्रभाव दवा लेने के 20 से 30 मिनट बाद शुरू होते हैं जो 12 घंटे तक रहते हैं ।

  • उच्च रक्तचाप
  • आँख की पुतलियों का फैलना
  • जबड़े भींचना
  • भूख की कमी
  • अधिक लार व पसीना
  • रोंगटे खड़े होना
  • कमजोर

मनोवैज्ञानिक प्रभाव

  • दृष्टि भ्रम
  • चिंता
  • अचानक मूड बदलना
  • वास्तविकता से दूर दिवास्वपन
  • अत्यधिक प्रसन्नता
  • महामानव होने का भ्रम
  • शक्तियों का भ्रम
  • बंद आँखों के रंग बिरंगा दिखना
  • चलती हुई ज्यामितीय आकृतियाँ

दुष्प्रभाव

  • मानसिक रोगों की संभावना में वृद्धि
  • वश में करना
  • पूर्व समय की स्मृति में जीना

कीमत

एक ग्राम एल.एस.डी. की कीमत लाखों में होती है ।

भारत में एल.एस.डी. से सम्बंधित कानून

स्वापक औषधि तथा मन:प्रभावी पदार्थ नियमावली, 1985 (Narcotic Drugs And Psychotropic Substances Act, 1985) के अनुसार

0.002 ग्राम एल.एस.डी. पाए जाने पर कम से कम एक साल का कठोर कारावास तथा 10,000 रूपये का जुर्माना हो सकता है ।

भारत में 0.1 ग्राम एल.एस.डी. पाए जाने पर 10 से 20 साल का कठोर कठोर कारावास तथा 1 से 2 लाख रूपये तक का जुर्माना हो सकता है ।

यह केवल पाए जाने की सजा है इसके उत्पादन, व्यापार, सेवन के लिए अलग से सजा का प्रावधान है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *